desh bhakti shayari 2020 | देश भक्ति शायरी 2020 photo, image download

Share:

Desh Bhakti Shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020 photo, image download 

desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020-desh bhakti shayari photo

dosto 26 january aane me bahut kam din baki hai isiliye aaj hum desh bhakti shayari 2020 lekar aaye hai jise aap apne dosto ko share kar sakte ho is desh bhakti shayari 2020 me aapko 2020 ki desh bhakti shayari milegi or bhi baaki desh bhakti shayari  dekne ke liye aap hmare website mubarak wishes pe ja sakte ho.

Desh bhakti Shayari 2020- dosto aap sb ko 26 january ki subhkamnaye is din hm sb log apne desh ke viro ko yaad karte hai or isi din hmara savidhan lagu hua tha to is mauke pr hum aapke liye desh bhakti shayari 2020 photo, image download lekar aaye hai jise aap facebok watsapp pr share kar saakte ho.




desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे
देशभक्तो के खून की वो धारा याद करले..

chalo phir se aaj vah yaad karate hain le le,
shaheedon ke dil mein vo vo yaadagaar karale,
jinamen bahakar aazaadee pahunchee thee kinaare pe
deshabhakto ke khoon kee vo dhaara yaad karale ..


मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, है दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,
इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हैं मेरा बस एक ही अरमान एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

main muslim hoon, hindoo hoon, donon vyakti hain,
la main teree geeta padh loon, padha le kuraan,
is svatantrata divas ke avasar par mera bas ek hee aramaan ek thaalee mein khaana khae saara hindustaan.



desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

इश्क़ तो करता हैं हर कोई मेहबूब पे मरता हैं हर कोई,
 कभी वतन को मेहबूब बना कर देखो तुझ पे मरेगा हर कोई……!!!!

ishq to karata hai har koee mehaboob pe marata hain har koee,
 kabhee vatan ko mehaboob bana kar dekho tujh pe huga har koee …… !!!!


ना पूछो ज़माने को, क्या हमारी कहानी हैं 
हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!!

na poochho zaane ko, hamaaree kahaanee kya hai
hamaaree pahachaan to bas ye hain kee ham sirph hindustaanee hain… !!



सदा ही लहराता रहे ये तिरंगा हमारा सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा गूंज उठता हैं जहां में चारो ओर….. लोगो की जुबान से वन्दे मातरम का नारा वतन की सर बुलंदी के लिए ये दिल क्या ख़ुशी ख़ुशी मिट जाए ये जिस्म भी हमारा जो शहीद हो गए वो अमर कहलाये अक्सर उनकी कुरबानियों के आगे सदा नमन हमारा इस देश के वासी बखूबी ये जानते हैं की सोने की चिड़िया कहलाता प्यारा देश हमारा

desh bhakti shayari in hindi image download


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020


वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई,
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई,
 दिल हमारे एक है एक है हमारी जान, 
हिंदुस्तान हमारा हैं हम हैं इसकी शान.

atan hamaara aisa na chhod paaya na,
rishta hamaara aise na toot paaya na,
 dil hamaara ek hai hamaaree jaan hai,
hindustaan hamaara hain ham isakee shaan hain.




मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा ये मुल्क मेरी जान है 
इसकी रक्षा के लिए मेरा दिल और जां कुर्बान है..

main mulk kee hiphajat karoonga ye mulk meree jaan hai
 isakee raksha ke lie mera dil aur jaan kurbaan hai .. 



शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, 
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा
अनेकता में एकता ही इस देश की शान है, 
इसीलिए मेरा भारत महान है

shaheedon kee chitaon par lagenge har saal mele,
vatan pe mar mitanevaalon ka baakee yahee nishaanaan hoga
anekaa mein ekata hee is desh kee shaan hai,
iseelie mera bhaarat mahaan hai


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti shayari in hindi

हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम भारतीय हैं – जय भारत, वन्दे मातरम


तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी 
वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी 
देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें 
अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें..!!

tiranga hamaara gaurav- e-jeevan hain
vatan parastee hain vafa-e-zamee
desh ke lie mar mitana kubool hain ham
akhand bhaarat ke svapan ka joonoon hain ham .. !!



मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ 
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, 
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, 
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

main bhaaratavarsh ka haradam amit sammaan karata hoon
yahaan kee chaandanee mittee ka hee gunagaan karata hoon,
mujhe chinta nahin hai svarg jaana moksh paane kee,
tiranga ho kafan mera, bas yahee aramaan rakhata hai.



कुछ नशा तिरंगे की आन का है, 
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है, 
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा, 
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है !!

kuchh nasha tirange kee aan ka hai,
kuchh nasha maatrbhoomi kee maan ka hai,
ham laharaayenge har jagah ye tiranga,
nasha ye hindustaan kee shaan ka hai !!


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti shayari in hindi image

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं, 
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं, 
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों, 
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

khushanaseeb hain vo jo vatan par mit jaate hain,
marakar bhee vo log amar ho jaate hain,
karata hoon unhen salaam e vatan pe mitane vaalon,
aapakee har saans mein tirange ka nase basata hai ...



खून से खेलेंगे होली, 
अगर वतन मुश्किल में है 
सरफ़रोशी की तमन्ना 
अब हमारे दिल में है,,

khoon se khelenge holee,
agar vatan mushkil mein hai
sarapharoshee kee tamanna
ab hamaare dil mein hai ,,



जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है, 
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है !!

jo ab tak na khaula, vo khoon nahin paanee hai,
jo desh ke kaam na aaye, vo bekaar javaanee hai !!


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti shayari in hindi photo download

जब देश में थी दिवाली….. वो खेल रहे थे होली… 
जब हम बैठे थे घरो में…… वो झेल रहे थे गोली… 
क्या लोग थे वो अभिमानी… है धन्य उनकी जवानी……… 
जो शहीद हुए है उनकी… ज़रा याद करो कुर्बानी… 
ए मेरे वतन के लोगो… तुम आँख में भर लो पानी..!!

jab desh mein divaalee thee… .. vo khel rahe the holee…
jab ham baithe the homo mein …… vo jhoothe the…
kya log the vo abhimaanee ... dhany hai unakee javaanee ... ... ...
jo shaheed huee hai unakee… zara yaad karo kurbaanee…
e mere vatan ke logo… tum aankh mein bhar lo paanee .. !!



सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा 
हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा। 
परबत वो सबसे ऊँचा 
हमसाया आसमाँ का 
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा !!

saare jahaan se achchha hindustaan hamaara
ham bulabulen hain vo vo gulasitaan hamaara.
parabat vo sabase ooncha
hamasaaya aasamaan ka
vo santaree hamaara vo haibaan hamaara !!



ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा 
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा 
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए 
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये !!

ai mere vatan ke logon tum maare laga lo naara
ye shubh din hai ham sab ka lahara lo tiranga pyaara
par mat bhoolana seema par veeron ne praan ganvae hain
kuchh yaad unhen bhee kar lo jo laut ke ghar na aaye !!


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

देश भक्ति शायरी इमेज डाउनलोड

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा, 
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा 
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि, 
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

likh raha hoon main ajamm jisaka kal aagaaj aayega,
mere lahoo ka har ek katara ikanlaab laaiga
main rahoon ya na rahoon par ye vaada hai aapako mera ki,
mere baad vatan par marane vaalon ka sailaab aayega



ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, 
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!



आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं। 
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं..!!


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

देश भक्ति शायरी इन हिंदी 2020

कुछ नशा तिरंगे की आन का है ! कुछ नशा मातृभूमि की शान का है ! 
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा ! नशा ये हिंदुस्तान की शान का है..!!



जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं, माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं, देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!



सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना ! 
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना..!!



कर जस्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम ! 
हर पत्ते को मार गिरायेंगे जो हमसे देश बटवायेंगे..!!


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

देश भक्ति शायरी इमेज

वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की , तोड़ता है दीवार नफरत की , मेरी खुश नसीबी है मिली जिंदगी इस चमन में ,भुला ना सके कोई इसकी खुशबू सातों जन्मों में..!!



सीनें में ज़ुनू, ऑखों में देंशभक्ति, की चमक रखता हुँ, 
दुश्मन के साँसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हुँ..!!



करता हूँ भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले, 
हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!



मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए 
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए 
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए 
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये 
* जय-हिन्द *


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

26 january shayari 2020

गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है 
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है 
दिल से तुमको नमन हैं करते 
ये आजाद वतन जो दिलाया है



इस वतन के रखवाले हैं हम 
शेर ए जिगर वाले हैं हम 
मौत से हम नहीं डरते 
मौत को बाँहों में पाले हैं हम



मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा 
ये मुल्क मेरी जान है 
इसकी रक्षा के लिए 
मेरा दिल और जां कुर्बान है


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

26 january shayari image download

उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई 
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है 
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि 
सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है…



संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे, 
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे 
हम मिलजुल के रहे ऐसे की 
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे. Jai Hind!



“चूमना पड़ता है फाँसी का फंदा 
चरखा चलाने से इंकलाब नही मिलता” 
माँ भारती के अमर सपूत 
भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के शहीद दिवस पर महान हुतात्माओं को भावभीनी श्रद्धांजली एवं शत शत नमन 
जय हिन्द। वंदे मातरम्


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti hindi shayari image
हर पल हम सच्चे भारतीय बनकर देश के प्रति अपना फर्ज निभायेंगे. 
 जरूरत पड़ी तो लहू का एक-एक कतरा देकर इस धरती का कर्ज चुकायेंगे.



सरहद पर एक फौजी अपना वादा निभा रहा हैं, 
 वो धरती माँ की मोहब्बत का कर्ज चुका रहा हैं.



अपना घर छोड़ कर, सरहद को अपना ठिकाना बना लिया, 
 जान हथेली पर रखकर, देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया.



किसी गजरे की ख़ुशबू को महकता छोड़ के आया हूँ, 
  मेरी नन्ही से चिड़िया को चहकता छोड़ के आया हूँ, 
  मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ, 
  मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ के आया हूँ. 
  
desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020

desh bhakti hindi shayari image download

  मेरे जज्बातों से मेरा कलम इस कदर वाकिफ हो जाता हैं, 
  मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इन्कलाब लिखा जाता हैं. 



मरने के बाद भी जिसके नाम मे जान हैं, 
 ऐसे जाबाज़ सैनिक हमारे भारत की शान है.

                    new 100+ sad shayari in hindi 20
                     good night shayari in hindi



 देश के उन वीर जवानों को सलाम 
 जो सुरक्षा का एहसास दिलाते हैं, 
 जो हथेली पर रखकर जान, 
 हमारी हिफाजत का जिम्मा उठाते हैं.



जहाँ हम और तुम हिन्दू-मुसलमान के फर्क में लड़ रहे हैं, 
 कुछ लोग हम दोनों के खातिर सरहद की बर्फ में मर रहे हैं.


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020


जहर पिलाकर मजहब का, इन कश्मीरी परवानों को, 
 भय और लालच दिखलाकर तुम भेज रहे नादानों को, 
 खुले प्रशिक्षण, खुले शस्त्र है खुली हुई शैतानी है, 
 सारी दुनिया जान चुकी ये हरकत पाकिस्तानी है,



“सीमा नहीं बना करतीं हैं काग़ज़ खींची लकीरों से, 
 ये घटती-बढ़ती रहती हैं वीरों की शमशीरों से.



सरहद तुम्हें पुकारे तुम्हें आना ही होगा, 
कर्ज अपनी मिट्टी का चुकाना ही होगा, 
दे करके कुर्बानी अपने जिस्मो-जां की, 
तुम्हे मिटना भी होगा मिटाना भी होगा।



अब तो मेरी कलम भी रो पड़ी है, 
शहीदों की शहादत लिखते लिखते।


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020


बच्चे बच्चे के दिल में कोई अरमान निकलेगा, 
किसी के रहीम तो किसी के राम निकलेगा, 
मगर उनके दिल को चीर के देखा जाए, 
तो उसमें हमारा प्यारा हिन्दुस्तान निकलेगा।



भारत का वीर जवान हूँ मैं, 
 ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं, 
 जख्मो से भरा सीना हैं मगर, 
 दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं, 
 भारत का वीर जवान हूँ मैं.



गूँजे कहीं पर शंख, 
 कही पे अजाँ हैं, 
 बाइबिल है, ग्रन्थ साहब है, 
 गीता का ज्ञान हैं, 
 दुनिया में खी और यह मंजर नसीब नही, 
 दिखाओ जमाने को यह हिन्दुस्तान हैं.


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020


फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर, 
 कि जो शहीदों का बहा वो खून 
 मेरी नींद के लिए था.



फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती, 
 ये वतन की मोहब्बत है जनाब… 
 पूछ के नहीं की जाती.



गीले चावल में शक्कर क्या क्या गिरी, 
 तुम भिखारी खीर समझ बैठे, 
 चंद कुत्तो ने पाकिस्तान जिंदाबाद क्या बोला, 
 तुम कश्मीर को अपने बाप की ज़ागीर समझ बैठे.



ऐ पाक, तेरा ख़्वाब नजारा ही रहेगा, 
 तू क़िस्मत का मारा है मारा ही रहेगा, 
 तेरे हर सवाल का जबाब करारा ही रहेगा, 
 कश्मीर हमारा हैं और हमारा ही रहेगा.


desh bhakti shayari 2020-देश भक्ति शायरी 2020


तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं, 
 हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं, 
 यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं, 
 और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं.



अगर माटी के पुतले देह में ईमान जिन्दा हैं, 
 तभी इस देश की समृद्धि का अरमान जिन्दा हैं, 
 ना भाषण से है उम्मीदें ना वादों पर भरोसा हैं, 
 शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिन्दा है.



दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगें, 
 आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें.



अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं, 
 इसलिए मेरा भारत देश महान हैं.



मैं जला हुआ राख नही, अमर दीप हूँ, 
 जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ.



ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें, भी परेशान हो जाएँ, 
 अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाएँ.

thank you

desh bhakti shayari 2020-to dosto is rupublic day pr shayari ke sath aap sabhi ko happy republic day wish karte hai or agar aapko or bhi desh bhakti shayari 2020 padhni hai to hmare site pe jaa ke dekh sakte ho.


No comments

please do not enter any spam link in the comment box